इसी ख्याल से गुज़री है…

इसी ख्याल से गुज़री है शाम-ए-ग़म अक्सर,
कि दर्द हद से जो गुज़रेगा तो मुस्कुरा दूंगा…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hindi Shayari © 2018 Frontier Theme
%d bloggers like this: