लोग जलते रहे…

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर,
मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की
जब जहाँ जो मिला अपना लिया,
जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hindi Shayari © 2018 Frontier Theme
%d bloggers like this: